Wednesday, July 24, 2024
बस्ती मण्डल

नियमित टीकाकरण से शत प्रतिशत आच्छादित हों बच्चे

गोरखपुर, बच्चों को विभिन्न प्रकार की जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए उनके टीकाकरण का खास ध्यान रखना होगा । स्वास्थ्य महकमा प्रयास करे कि नियमित टीकाकरण से शत प्रतिशत बच्चे आच्छादित हों। यह निर्देश मुख्य विकास अधिकारी संजय कुमार मीणा ने जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक के दौरान दिये । यह बैठक विकास भवन सभागार में मंगलवार की देर शाम तक चली । उन्होंने मातृ शिशु स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न कार्यक्रमों और राष्ट्रीय कार्यक्रमों की विस्तार से समीक्षा की ।

मुख्य विकास अधिकारी ने बैठक के दौरान कहा कि जिन ब्लॉक में नियमित टीकाकरण की स्थिति बेहतर नहीं होगी, वहां जिम्मेदारी तय करके कड़ी कार्रवाई की जाएगी । उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनिसेफ के मॉनीटरिंग डेटा के अनुसार टीकाकरण के प्रति कमजोर ब्लॉक में अपेक्षित सुधार करने का निर्देश दिया ।

इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आशुतोष कुमार दूबे ने कहा कि समुदाय में इस संदेश का व्यापक तौर पर प्रचार प्रसार किया जाए कि पांच वर्ष की उम्र तक बच्चों का सात बार टीकाकरण जरूरी है । बच्चे के जन्म के 24 घंटे के भीतर तीन प्रमुख टीके अस्पताल परिसर में ही लग जाने चाहिए । टीकाकरण के बाद संबंधित लाभार्थी को अगले टीकाकरण की तिथि के बारे में बता दिया जाए । इस मौके पर नवजात शिशु स्वास्थ्य, कोल्ड चेन, यूविन, आंकाक्षी ब्लॉक में स्वास्थ्य कार्यक्रम, राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम और आयुष्मान भारत योजना की खासतौर से समीक्षा की गयी ।

बैठक में यूपीटीएसूयू, यूएनडीपी और सीफार के प्रतिनिधिगण ने भी प्रस्तुति दी । जिला महिला अस्पताल के अधीक्षक डॉ जय कुमार, जिला अस्पताल के प्रतिनिधि डॉ प्रशांत अस्थाना, एसीएमओ डॉ एके चौधरी, डॉ नंदलाल कुशवाहा, डीडीटीओ डॉ विराट स्वरूप श्रीवास्तव, डीएमओ अंगद सिंह, डीडीएचईआईओ सुनीता पटेल, डीपीएम पंकज आनंद, डीडीएम पवन गुप्ता, डैम पवन कुमार, एनएचएम से विजय श्रीवास्तव और आदिल प्रमुख तौर पर बैठक में मौजूद रहे ।

*जिले में एएनएम की कमी दूर*

डीएचएस की बैठक के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जिले में नवनियुक्त एएनएम के आ जाने से नियमित टीकाकरण कार्यक्रम को मजबूती मिलेगी । सभी ब्लॉक एएनएम की मदद से नियमित टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करें । उन्होंने प्रत्येक कार्यक्रम से संबंधित ऑनलाइन रिपोर्टिंग को खासतौर से सुदृढ़ किये जाने की आवश्यकता बताई ।