Tuesday, April 16, 2024
क्राइम

एक सप्ताह बाद भी नही मिला विवाहिता का कोई सुराग, हत्या की आशंका

बस्ती, 13 मार्च। परसरामपुर थाना क्षेत्र के मजगवां माफी गांव से 21 साल की युवती 07 मार्च से लापता है। ससुराल वाले अनभिज्ञता जाहिर कर रहे हैं, वहीं पुलिस भी युवती को ढूढ़ने में नाकाम है। थाने पर गुमशुदगी का मामला दर्ज है। गौर थाना क्षेत्र के टिनिच शुक्ल निवासी धर्मेन्द्र कुमार पुत्र सत्य नरायन ने पुलिस अधीक्षक और पुलिस महानिरीक्षक को शिकायती पत्र देकर कार्यवाही की मांग किया है।

धर्मेन्द्र कुमार का कहना है कि उनकी छोटी बहन कुसुम (उम्र 21 वर्ष) की शादी राजेश पुत्र केशराम निवासी मजगवां माफी थाना परसरामपुर के साथ लगभग दो वर्ष पूर्व हुई थी। उसके साथ ससुराल के लोगों का व्यवहार शुरू से ठीक नहीं रहा। जेठ चन्द्रेश, अमरेश, सास, ससुर, दोनो बहने, उसे दहेज को लेकर ताने देते थे। आये दिन उसका मानसिक उत्पीडन करते और गाली-गलौज देकर उसे अपमानित करते थे। बहन के जरिये ये बातें पता चलती थीं। जब कोई मामला होता तो रिश्तेदारों की मध्यस्थता से शांत करा दिया जाता था। धर्मेन्द्र का कहना है कि 08 मार्च को बहन का हाल चाल लेने के लिए कई बार फोन किया तो उसका मोबाइन न० 9648032553 स्विच ऑफ मिला।

इसके बाद तरह तरह की आशंका सताने लगी। पता चला बहनोई राजेश के फेसबुक आई०डी० पर बहन की गुमशुदगी पोस्ट की गई है। ससुर के मोबाइल 9721339906 पर पता किया तो मालूम हुआ की रात को भोजन कर सोई थी, सुबह पता चला की वह घर पर नहीं है, और कब गायब हो गयी मुझे नही मालूम है। बहनोई को फोन किया तो उन्होने बताया कि सुबह 4 बजे से गायब है। थाने पर ससुर केशराम के द्वारा गुमशुदा की रिर्पोट दर्ज कराई गई है। तहरीर में साय 7 बजे गायब होना बताया गया है। लिखा है वह बाजार गयी थी वहीं से गायब है। धर्मेन्द्र ने मामले को संदिग्ध बताया है, उनका कहना है कि ससुराल के लोगों ने कुसुम की हत्या कर उसकी लाश को गायब कर दिया है और पुलिस तथा मायके वालों को गुमराह करने के लिये थाने पर झूठा गुमशुदगी का प्रार्थना पत्र दिया है। पीड़ित धर्मेन्द्र ने मामले को गंभीरता से लेते हुये सच्चाई सामने लाते हुये दोषियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग किया है।