Tuesday, June 25, 2024
बस्ती मण्डल

जयंती पर याद किये गये पेरियार रामा स्वामी नायकर

बस्ती। डा. वी.के. वर्मा इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस बसुआपार के परिसर में महामना पेरियार रामास्वामी नायकर को जयंती अवसर पर अर्जक कल्याण ट्रस्ट अध्यक्ष रघुनाथ पटेल के नेतृत्व में आयोजित गोष्ठी में याद किया गया।
जयंती समारोह के मुख्य अतिथि वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी डॉक्टर बी.पी. अशोक ने समता क्यों और कैसे विषयक संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुये कहा कि पेरियार के नाम से विख्यात, ई. वी. रामास्वामी का तमिलनाडु के सामाजिक और राजनीतिक परिदृश्यों पर असर इतना गहरा है कि कम्युनिस्ट से लेकर दलित आंदोलन विचारधारा, तमिल राष्ट्रभक्त से तर्कवादियों और नारीवाद की ओर झुकाव वाले सभी उनका सम्मान करते हैं, उनका हवाला देते हैं और उन्हें मार्गदर्शक के रूप में देखते हैं।
विशिष्ट अतिथि पूर्व परियोजना निदेशक विजय प्रकाश वर्मा , जिला चिकित्सालय के प्रमुख अधीक्षक डॉक्टर सुरेश चंद्र कौशल ने कहा कि पेरियार ने तर्कवाद, आत्म सम्मान और महिला अधिकार जैसे मुद्दों पर जोर दिया, जाति प्रथा का घोर विरोध किया, यूनेस्को ने अपने उद्धरण में उन्हें ‘नए युग का पैगम्बर, दक्षिण पूर्व एशिया का सुकरात, समाज सुधार आंदोलन का पिता, अज्ञानता, अंधविश्वास और बेकार के रीति-रिवाज का दुश्मन’ कहा। गिरजा शंकर पटेल ने अध्यक्षता करते हुये पेरियार के जीवन संघर्ष पर प्रकाश डाला।
जयंती समारोह को सम्बोधित करते हुये संस्थान के संस्थापक प्रबंधक डा वी के वर्मा ने कहा कि तर्कवादी, नास्तिक और वंचितों के समर्थक होने के कारण उनकी सामाजिक और राजनीतिक जिंदगी ने कई उतार चढ़ाव देखे। कार्यक्रम में आर के सिंह पटेल, अशोक कुमार वर्मा, सत्य राम चौधरी , शिवराम कनौजिया, सुभाष चंद्र गौतम , रामकेश चौधरी, सत्येंद्र यादव , राम प्रकाश पाल, तुलसीराम भारतीय , बनवारी लाल कनौजिया, डॉक्टर आलोक रंजन, जगन्नाथ मौर्य स्वर्गीय, इंजीनियर चंद्रशेखर वर्मा, शिव प्रसाद धुरिया, जलालुद्दीन कुरैशी , राम पुराण चौधरी राम सुरेश पटेल, सलीम,संतोष कुमार धरकर आदि लोगों ने संबोधित करते हुए पेरियार रामास्वामी नायकर के बताए हुए रास्ते पर चलकर उनके सपनों को साकार करने का संकल्प लिया।