Thursday, February 22, 2024
हेल्थ

लाइलाज बीमारी फाइलेरिया से बचने के लिए चार दिन का है मौका, जरूर खाएं बचाव की दवा-सीडीओ

गोरखपुर, 24 अगस्त-2023 ! चार दिन…खुद का पांव हाथी जैसा होने से बचाने और हाइड्रोसील (अंडकोष में सूजन) से बचने के लिए बस एक उपाय है – दवा खा लीजिए और उसके लिए सिर्फ चार दिन शेष बचे हैं। मच्छर के काटने से होने वाली फाइलेरिया लाइलाज और गंभीर बीमारी है। किसी को हो जाए तो जीवन भर ठीक नहीं होती है। इसलिए जो लोग रह गए हैं 28 अगस्त तक दवा जरूर खा लें। आशा आपके घर पहुंचें और उस वक्त आपकी मुलाक़ात न हो तो बाद में उनसे सम्पर्क कर दवा जरूर खाएं। यह आपके और आपके परिवार के लिए बेहद जरूरी है।

मुख्य विकास अधिकारी संजय कुमार मीणा ने जनपदवासियों से यह अपील करते हुए बताया कि राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के तहत 10 अगस्त से सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम (एमडीए) चल रहा है। आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर फाइलेरिया से बचाव की दवा खिला रहीं हैं । यह दवा पूरी तरह सुरक्षित और कारगर है। दो साल से छोटे बच्चों, गर्भवती और गंभीर रूप से बीमार को छोड़कर सभी को यह दवा जरूर खानी है ।

जिला मलेरिया अधिकारी अंगद सिंह ने बताया कि बीमारी का पता चलने में पांच से 15 साल लग सकते हैं, इसलिए कोई भी जोखिम न लें और न ही कोई बहाना करें क्योंकि आज का यही बहाना आपको जीवनभर के लिए मुसीबत में डाल सकता है। इसलिए दवाओं का सेवन कर समाज को फाइलेरिया मुक्त बनाएं। दवा खाने के बाद जी मिचलाना, चक्कर आना या उल्टी लगे तो घबराने की जरूरत नहीं है। ऐसा शरीर में फाइलेरिया के परजीवी होने के कारण हो सकता है, जो दवा खाने के बाद मरते हैं जिससे इस तरह की प्रतिक्रिया हो सकती है जो कुछ देर में स्वतः ठीक हो जाती है।

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि फाइलेरिया से संक्रमित होने के बाद रोगी का पूरा जीवन दर्द और कठिनाई से बीतता है। इससे जुड़ी दिव्यांगता के कारण लोगों को अक्सर सामाजिक उपेक्षा का भी सामना करना पड़ता है। बीमारी से प्रभावित व्यक्ति की कार्यक्षमता भी कम हो जाती है, जिससे व्यक्ति की आजीविका और आर्थिक उन्नति दोनों प्रभावित होती है। इसलिए फाइलेरिया से बचाव की दवा का सेवन करना खुद के साथ घर-परिवार और समाज की भलाई में है। लगातार पांच साल तक साल में एक बार यदि दवा का सेवन कर लेते हैं तो इस बीमारी से सुरक्षित बन सकते हैं ।

*28.25 लाख लोग खा चुके हैं दवा*

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि 51.23 लाख की लक्षित आबादी के सापेक्ष जिले में 23 अगस्त की शाम तक 28.25 लाख लोग दवा का सेवन कर चुके हैं । दवा सेवन संबंधी अतिरिक्त जानकारी के लिए सहायक मलेरिया अधिकारी सीपी मिश्र से उनके मोबाइल नंबर 9450018568 पर सुबह 11 बजे से अपराह्न चार बजे तक सम्पर्क किया जा सकता है। जिन क्षेत्रों में आशा कार्यकर्ता नहीं हैं, वहां आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से सम्पर्क कर दवा का सेवन करना है।