Monday, April 15, 2024
उत्तर प्रदेश

कोरोना टेस्ट का टारगेट पूरा करने के लिए डॉक्टर ने दिए अपने ही 15 सैंपल, फर्जीवाड़े का वीडियो वायरल

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा में कोरोना की फर्जी सैंपलिंग का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में एक डॉक्टर अपने ही एक दर्जन से अधिक सैंपल करके जांच के लिए भिजवा रहा है। ये सैंपल अलग-अलग नामों से जांच के लिए भेजे जाते हैं। इसकी पुष्टि कोरोना सैंपलिंग में लगे एक डॉक्टर ने भी की है। यह वीडियो मथुरा के बलदेव स्थित स्वर्गीय डोरीलाल अग्रवाल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है।

कोरोना सैंपलिंग में लगे यहां के डॉ. राजकुमार सारस्वत इस वीडियो में अपने ही सैंपल करा रहे हैं। वीडियो में वह बोलते नजर आ रहे हैं कि सैंपल कम पड़ गए हैं, इसलिए अपने सैंपल करा रहा हूं। इस वीडियो में उन्होंने अपने एक दो नहीं पूरे एक दर्जन से अधिक सैंपल करवाए हैं। इस वीडियो में एक स्वास्थ्य कर्मी के उन्हें समझाने की भी आवाज आ रही है कि आप अपने इतने सैंपल क्यों करवा रहे हो, इससे आपकी नौकरी को भी खतरा हो सकता है।

अलग-अलग फर्जी नामों से भिजवा दिए जाते हैं ये सैंपल सीएचसी के ही एक डॉक्टर ने बताया कि ये सैंपल जांच के लिए सीएमओ कार्यालय अलग-अलग फर्जी नामों से भिजवा दिए जाते हैं। इस संबंध में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बलदेव के डॉक्टर डॉ. अमित ने सीएमओ मथुरा से शिकायत भी की है। डॉ. अमित भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बलदेव पर कोरोना सैम्पलिंग में लगे हुए थे। उन्होंने बताया के सीएचसी प्रभारी डॉ. योगेंद्र सिंह राणा संविदा पर लगे हुए डॉक्टरों पर दबाव बनाकर फर्जी सैम्पलिंग का कार्य करा रहे हैं। टारगेट पूरा करने के लिा फर्जी सैंपलिंग कोरोना सैंपलिंग का टारगेट पूरा करने के लिए फर्जी सैंपलिंग कराई जा रही है। फर्जी सैंपलिंग न करने पर सीएचसी प्रभारी द्वारा डॉक्टरों की संविदा समाप्त करने की धमकी भी दी जाती है। डॉ. अमित ने बताया कि उनके फर्जी साइन करके सीएचसी पर मरीजों को होम आइसोलेट भी किया जा रहा है, जिसकी शिकायत जब उन्होंने मथुरा सीएमओ कार्यालय में की तो सीएचसी प्रभारी द्वारा उनके खिलाफ थाना बलदेव में तहरीर दे दी गई।