Saturday, July 20, 2024
अयोध्या मण्डल

ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर निर्माण के लिए कर थे अवैध चंदा वसूली, पुलिस ने अध्यक्ष को किया गिरफ्तार

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में पुलिस ने श्रीराम तीर्थ ट्रस्ट बनाकर अयोध्या में मंदिर निर्माण के नाम पर चंदा वसूली कर ठगी करने वाले एक आरोपी को मेडिकल थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह गिरफ्तारी विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) की शिकायत के बाद हुई है। विहिप की मानें तो अयोध्या में भगवान श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए कोई चंदा फिलहाल नहीं लिया जा रहा है। तो वहीं, पुलिस ट्रस्ट अध्यक्ष नरेन्द्र राणा को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक, मेरठ जिले में नरेन्द्र राणा श्रीरामतीर्थ ट्रस्ट बनाकर चंदा वसूली कर रहा था। इसकी सूचना विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) को लगी तो उन्होंने विरोध किया। विहिप के महानगर संयोजक अर्जुन राठी ने बताया कि गढ़ रोड स्थित गांव जिठौली में मंदिर से कुछ लोगों ने यह एनाउंसमेंट कराया कि वे अयोध्या मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा कर रहे हैं। चंदा लेने के लिए वह शनिवार को आएंगे। विहिप कार्यकर्ता दिग्विजय सिंह तोमर ने इसकी सूचना अपने पदाधिकारियों को दी। जिसके बाद उन्होंने एनाउंसमेंट करने वालों की जानकारी ली और श्रीराम तीर्थ ट्रस्ट के जागृति विहार स्थित कार्यालय पर पहुंचे। यहां ट्रस्ट अध्यक्ष नरेंद्र राणा निवासी गांव कुरालसी, मुजफ्फरनगर मौजूद मिला। चंदा इकट्ठा किसके आदेश पर हो रहा है, वह इसकी जानकारी नहीं दे पाया। विहिप पदाधिकारियों की सूचना पर मेडिकल थाना पुलिस आ गई। पुलिस ने ट्रस्ट के दफ्तर को बंद करा दिया और नरेंद्र को पूछताछ के लिए थाने पर ले गई। इस मामले में विहिप के जागृति विहार प्रखंड मंत्री अर्जुन त्यागी ने मेडिकल थाने में नरेंद्र राणा व अज्ञात को नामजद करते हुए तहरीर दी है।

विहिप पदाधिकारियों ने बताया कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने खाता संख्या जारी कर रखा है। उसी खाते में मंदिर निर्माण सहयोग राशि ली जा रही है। इसके अलावा चंदा वसूली का कोई आदेश या अधिकार नहीं है। व्यक्तिगत तौर से कोई चंदा नहीं वसूल सकता। तो वहीं, सिविल लाइन सीओ पूनम सिरोही ने बतया कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के नाम पर चंदा वसूली को लेकर ट्रस्ट के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर नरेन्द्र राणा को गिरफ्तार कर लिया है। पूरे मामले में विस्तृत जांच जाकी जा रही है।