Tuesday, February 27, 2024
बस्ती मण्डल

भगत सिंह को भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है-राम कुमार

भानपुररानी (सिद्धार्थनगर) 28 सितम्बर , समाज सेवक राम कुमार गुप्ता गुरुवार को माँ भारती की सेवा में अपना सर्वस्व अर्पण करने वाले, महान स्वतंत्रता सेनानी, वीर सपूत, अमर शहीद भगत सिंह जी की जयंती पर पूर्वांचल के वरिष्ठ पत्रकार स्व0 अनिल कुमार श्रीवास्तव पार्क भानपुर रानी में स्थापित भगत सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण करके उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद सम्बोधित करते हुए कहा कि भगत सिंह को भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है। वो कई क्रन्तिकारी संगठनों के साथ मिले और उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में अपना बहुत बड़ा योगदान दिया था। भगत सिंह जी की मृत्यु 23 वर्ष की आयु में हुई जब उन्हें ब्रिटिश सरकार ने फांसी पर चढ़ा दिया। भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर, 1907 को लायलपुर ज़िले के बंगा में हुआ था। उनके जीवन से हमे प्रेरणा लेकर देश हित मे कार्य करने चाहिए।
उन्होंने कहा कि उनका पैतृक गांव खट्कड़ कलां है जो पंजाब, भारत में है। उनके जन्म के समय उनके पिता किशन सिंह, चाचा अजित और स्वरण सिंह जेल में थे। उन्हें 1906 में लागू किये हुए औपनिवेशीकरण विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन करने के जुल्म में जेल में डाल दिया गया था। उनकी माता का नाम विद्यावती था। भगत सिंह का परिवार एक आर्य-समाजी सिख परिवार था।
भगत सिंह ने देश की आजादी के लिए जो कार्य किया है उसको कभी भुलाया नही जा सकता आज हम लोग उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए देश हित मे कार्य करने की शपथ लेते है।