Friday, February 23, 2024
बस्ती मण्डल

सीएमओ ने प्रभारी चिकित्साधिकारियों का कसा नकेल, अब नही चल सकेगी नाजायज सेन्टर संचालकों की मनमानी

भानपुर बस्ती (सचिन कुमार कसौधन)  जिले मे नाजायज तरीके सें संचालित हो रहे नर्सिंगहोमों,अल्टरासांउंड सेन्टरों, पैथालजी सेन्टरों के संचालकों तथा प्रभारी चिकित्साधिकारियों के लिए बुरी खबर है। ऐसे सेन्टरों के संचालन पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0पी0 मिश्रा ने जिले के सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों का उत्तरदायित्व नियत करते हुए ऐसे कृत्यों के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया है। इसके लिए सीएमओ डा0 मिश्रा ने सभी एमओआइसी से बाकायदे निर्धारित प्रारूप पर शपथ पत्र मांगा है। सीएमओ के द्वारा जारी किये गये पत्र से प्रभारी चिकित्साधिकारियों और संचालकों को सांप सूंघ गया है। अब लोग शार्टकट रास्ता तलाशने मे गणेश परिक्रमा कर रहे हैं। अब प्रभारी चिकित्साधिकारियों की मनमानी नही चल पायेगी। क्योंकि ऐसे संचालित नाजायज सेन्टरों पर कार्रवाई का ठीकरा जिले स्तर के स्वास्थ्य अधिकारियों पर फोडा जाता था। सीएमओ के इस पत्र पर पूर्णतया विराम लग गया है। अब प्रभारी चिकित्साधिकारियों का ऐसे नाजायज सेन्टरों से अवैध वसूली पर भी विराम लगेगा।

बताते चलें कि जिले के विभिन्न सीएचसी/पीएचसी क्षेत्रान्तर्गत नाजायज तरीके से संचालित हो रहे अपंजीकृत नर्सिंगहोमों,अल्टरासांउंड सेन्टरों, पैथालजी सेन्टरों के विरूद्व प्रिण्ट मीडिया के विभिन्न माध्यमों से प्रसारित हो रही खबरों से संज्ञान लेकर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0पी0 मिश्रा ने बडी कार्यवाही करते हुए जिले के सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों पर नकेल कस दिया है। इस सम्बन्ध मे मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0पी0 मिश्रा ने 23 सितम्बर को कडा आदेश जारी किया है। जहां अभी तक वे ऐसे अवैध संचालित सेटरों पर कार्यवाही करने से पल्ला झाड रहे थे। अब यह उनकी मनमानी और नाजायज वसूली पर पूर्णतया प्रतिबन्ध लग गया है। प्रभारी चिकित्साधिकारियों द्वारा इस आशय का शपथ पत्र कि अब उनके पीएचसी/सीएचसी क्षेत्र मे कोई नाजायज अपंजीकृत सेन्टर संचालित नही हो रहा है। शपथ पत्र देने के बाद यदि कहीं कोई ऐसा नाजायज सेन्टर संचालित पाया जाता है तो सीएमओ द्वारा सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारी के विरूद्व कार्यवाही की जायेगी। जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारी की होगी।

इस सम्बन्ध मे सीएमओ डा0 आर0पी0 मिश्रा ने बताया कि अब जिले मे नाजायज तरीके सें संचालित हो रहे नर्सिंगहोमों,अल्टरासांउंड सेन्टरों, पैथालजी सेन्टरों के संचालकों की मनमानी चलने नही दिया जायेगा। इसके लिए जिले के सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों को नोडल बनाया गया है। वे अपने क्षेत्र मे संचालित हो रहे ऐसे सेन्टरों पर कार्यवाही कर सूचित करेंगे। उन्होंने बताया कि सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों से इस निमित्त शपथ पत्र भी मांगा गया है। इसके बावजूद भी यदि अवैध सेटर संचालित पाया जायेगा तो सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारी के विरूद्व कडी कार्यवाही की जायेगी