Saturday, March 2, 2024
बस्ती मण्डल

पेंशन प्राप्त करना कर्मचारियों का विधिक अधिकार- उदयशंकर शुक्ल

बस्ती । बुधवार को उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ पदाधिकारियों के प्रतिनिधि मंडल ने जिलाध्यक्ष उदय शंकर शुक्ल के नेतृत्व में अपर जिलाधिकारी कमलेश चन्द्र के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा। मांग किया कि पुरानी पेंशन बहाल किया जाय।
ज्ञापन सौंपने के बाद जिलाध्यक्ष उदय शंकर शुक्ल ने बताया कि पुरानी पेंशन बहाल किये जाने की मांग को लेकर पेंशन बहाली संयुक्त मंच ‘एन.जे.सी.ए. राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाहन पर लगातार बीआरसी केन्द्रों पर शिक्षकों के साथ बैठक कर जागरूकता अभियान जारी है। आगामी 21 सितम्बर को एक सूत्रीय मांग को लेकर बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के समक्ष धरना देकर ज्ञापन सौंपा जायेगा। कहा कि पेंशन प्राप्त करना कर्मचारियों का विधिक अधिकार है।
राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन में कहा गया है कि वर्ष 2005 में लागू की गई एन.पी.एस. व्यवस्था की दुर्दशा बयान नहीं किया जा सकता। 19 वर्ष के बाद भी समय से न तो खाते खुले और न ही कटौतियां सुव्यवस्थित ढंग से हुई। दोष पूर्ण व्यवस्था के कारण अधिकारी, कर्मचारी, शिक्षक आर्थिक, मानसिक उत्पीड़न झेल रहे हैं, आकस्मिक, दैवीय घटना होने पर परिवार का भविष्य सुरक्षित नहीं रह गया है। एनपीएस की सबसे बड़ी आपत्ति अधिकारी, कर्मचारी, शिक्षक के हजारों करोड़ की धनराशि शेयर मार्केट, म्यूचुअल फण्ड एवं अन्य वित्तीय संस्थाओं के बाण्ड में निवेश किया जा रहा है। उसके आय व परिणामों के आधार पर पेेंन्शन निर्धारित होगी। हर्षद मेहता सहित शेयर बाजार आदि में हुये अनेकों घोटालोें को देश जानता है। सरकार द्वारा एनपीएस में पेंशन भुगतान की गारण्टी भी नहीं दिया गया है। सर्वोच्च न्यायालय के पूर्ण पीठ ने अपने निर्णय में कहा है कि कर्मचारियों की पेंशन भीख नहीं है, बल्कि उनका अधिकार है। पुरानी पेंशन की बहाली कोई नई मांग नहीं है। सेवानिवृत्त के पश्चात जीवन यापन हेतु हमसे और हमारे परिवार से छीनी गई सुविधा को वापस दिलाया जाय। ज्ञापन में कहा गया है कि सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में कहा है कि पेंन्शर को इतना सक्षम होना चाहिये कि वह अपने ऊपर ही आश्रित रहे, उसका सम्मान एवं जीवन यापन का स्तर प्री रिटायरमेंट वाला ही रहे और पेंशन डिफरेन्टड पेे लम्बित वेतन कहा है।
ज्ञापन सौंपने वालों में जिला कोषाध्यक्ष अभय सिंह यादव, विकास क्षेत्र कुदरहा के मंत्री ओम प्रकाश पाण्डेय, सच्चिदानन्द शुक्ल, राजेन्द्र चौधरी, संजीव कुमार, दुर्गा सिंह, रत्नाकर गुप्ता, राजीव उपाध्याय, राम प्रताप चौधरी, बब्बू लाल, राजेश यादव के साथ ही अनेक संघ पदाधिकारी, शिक्षक शामिल रहे।