Sunday, April 14, 2024
बस्ती मण्डल

आयुष्मान भारत योजना बढ़ेगी प्राइवेट अस्पतालों की संख्या, इलाज में होगी सुविधा

बस्ती। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) योजना में सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों में जल्द ही इजाफा होगा। इससे कमजोर वर्ग के गरीब लाभार्थी परिवारों को इलाज में काफी सुविधा होगी। शासन ने दिशा-निर्देश जारी कर सुविधा वाले प्राइवेट अस्पतालों को योजना में शामिल किए जाने को कहा है।
आयुष्मान भारत योजना में सरकारी अस्पतालों के साथ ही पंजीकृत प्राइवेट अस्पतालों को भी सूचीबद्ध किया गया है। इधर कोविड-19 के कारण ज्यादातर सरकारी अस्पतालों में सामान्य इलाज की सुविधा पहले जैसे नहीं मिल पा रही ओं में कमी आई है। आयुष्मान के मरीजों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में इलाज की सुविधा जरूर मिल रहा रही है, लेकिन सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों की संख्या काफी कम है। कई ऐसे अस्पताल जहां बेहतर इलाज की सुविधा उपलब्ध तो है, लेकिन वह योजना में शामिल नहीं है। शासन के नए दिशा-निर्देश में ऐसे ही सुविधा सम्पन्न अस्पतालों को शामिल किया जाएगा।
कार्यक्रम को संचालित करने वाली स्टेट हेल्थ एजेंसी की मुख्य कार्यपालक अधिकारी संगीता सिंह की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि जनपद स्तर पर डीएम की अध्यक्षता में डिस्ट्रिक्ट इम्पैनलमेंट कमेटी गठित है। कमेटी को यह निर्देशित किया गया है कि कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए पर्याप्त संख्या में गुणवत्तायुक्त अस्पतालों को इम्पैनल्ड (सूचीबद्ध) किया जाए। प्रदेश शासन की समीक्षा में यह पाया गया है कि जिलों में जितनी संख्या में प्राइवेट अस्पताल पंजीकृत हैं है, उसके अनुपात में योजना में इम्पैनल्ड अस्पतालों की संख्या काफी कम है। इसे देखते हुए शासन ने अस्पतालों की संख्या बढ़ाने का निर्देश दिया है।
70 अस्पतालों में 17 हैं सूचीबद्ध
जनपद में 70 अस्पताल स्वास्थ्य विभाग में पंजीकृत हैं। इसमें से महज 17 अस्पताल योजना में सूचीबद्ध हैं। जिले में कई बड़े व सुविधायुक्त अस्पताल ऐसे हैं, जिन्हें योजना में शामिल कर वहां पर बेहतर इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा सकती है।
1.59 लाख परिवार हैं योजना के लाभार्थी
सितंबर 2018 में योजना का शुभारंभ जिले में हुआ। जिले के 1.59 लाख परिवार आयुष्मान भारत योजना की सूची में शामिल हैं। अब तक करीब 1.06 एक लाख छह हजार लोगों का गोल्डेन कार्ड बन चुका है। सूची में शामिल लाभार्थी परिवार के लिए सूचीबद्ध किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में निशुल्क गोल्डेन कार्ड बनाए जाने की सुविधा है। सीएचएससी पर प्रति कार्ड 30 रुपए का भुगतान कर कार्ड बनवाया जा सकता है। जिले के प्राइवेट 17 अस्पतालों के साथ ही मेडिकल कॉलेज, जिला व महिला अस्पताल तथा 13 सीएचसी को योजना से जोड़ा जा चुका है।
योजना में प्राइवेट अस्पतालों की संख्या बढ़ाया जाना है। जिन अस्पतालों में बेहतर सुविधा है, उनका चयन कर उन्हें सूचीबद्ध कराया जाएगा तथा इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।
— डॉ. फकरेयार हुसैन, एसीएमओ, बस्ती