Friday, February 23, 2024
गोरखपुर मण्डल

डीएम और एसएसपी ने खाई फाइलेरिया से बचाव की दवा, कहा-सुरक्षित और असरदार है यह दवाई

एसपी ट्रैफिक और एसपी मंदिर सुरक्षा ने भी किया दवा का सेवन, ऑफिस में भी खिलाई गई दवा

गोरखपुर, 25 अगस्त 2023। जिलाधिकारी कृष्णा करूणेश और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर ने शुक्रवार को फाइलेरिया से बचाव की दवा का सेवन किया और कहा कि यह दवा पूरी तरह से सुरक्षित और असरदार है । एसपी ट्रैफिक श्यामदेव और एसपी मंदिर सुरक्षा घनश्याम चौरसिया ने भी दवा का सेवन किया । जिलाधिकारी कैम्प ऑफिस, एसएसपी ऑफिस और एसपी ट्रैफिक ऑफिस में उपलब्ध कर्मियों को भी जिला मलेरिया अधिकारी अंगद सिंह की टीम ने दवा का सेवन करवाया । जिलाधिकारी और एसएसपी ने जनपदवासियों से दवा सेवन करने की अपील की है ।

दवा सेवन के लिए लोगों से अपील करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि लाइलाज बीमारी फाइलेरिया से बचाने के लिए इस समय जिले में एमडीए नाम से अभियान चल रहा है, जो 28 अगस्त तक चलेगा। इस अभियान के दौरान आशा व आंगनबाडी कार्यकर्ता और स्वास्थ्यकर्मी आपके घरों पर जाकर बचाव की दवा अपने सामने खिला रहे हैं। सभी को संकल्प लेना होगा कि वह इस दवा का सेवन कर अभियान को सफल बनाएंगे । उन्होंने खुद भी इस दवा का सेवन किया है। यह सुरक्षित और असरकारक है ।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष जिले में फाइलेरिया रोगी नेटवर्क के सदस्य भी लोगों को इस बीमारी की भयावहता का एहसास करवा रहे हैं और लोगों को दवा सेवन के लिए प्रेरित भी कर रहे हैं। पिपराईच ब्लॉक में सक्रिय इस नेटवर्क और स्वयंसेवी संस्थाओं को उन्होंने शुभकामनाएं दीं ।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ ग्रोवर ने अधिकाधिक लोगों द्वारा दवा सेवन के लिए अपील की और कहा कि दो वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोग दवा का सेवन अवश्य करें। सिर्फ गर्भवती और अति गंभीर बीमार लोगों को इस दवा का सेवन नहीं करना है। इसे खाली पेट नहीं खाना है । उन्होंने जिले के समस्त पुलिसकर्मियों द्वारा दवा सेवन की अपील की और कहा कि साल में एक बार इस दवा का सेवन पांच साल तक लगातार अनिवार्य है । दवा का सेवन न करने वालों को हाथीपांव या हाइड्रोसील अथवा दोनों बीमारियों का खतरा रहता है जो कभी भी पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाते हैं। यह बीमारी विश्व में दीर्घकालीन दिव्यांगता का दूसरा सबसे बड़ा कारण है जो जीवन को बोझ बना देता है ।

एसपी ट्रैफिक श्यामदेव और एसपी मंदिर सुरक्षा ने भी समुदाय से अपील कि है कि जीवन को बोझ बनने से बचाने के लिए फाइलेरिया से बचाव की दवा का सेवन अनिवार्य है । स्वास्थ्य विभाग की एक अन्य टीम ने दृष्टिबाधित बालिका विद्यालय तुर्कमानपुर में 74 लोगों को फाइलेरिया से बचाव की दवा का सेवन करवाया ।

*32.11 लाख लोग खा चुके हैं दवा*

जिला मलेरिया अधिकारी अंगद सिंह ने बताया कि 51.23 लाख की लक्षित आबादी के सापेक्ष जिले में 24 अगस्त की शाम तक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आशुतोष कुमार दूबे के दिशा निर्देशन में 32.11 लाख लोग दवा का सेवन कर चुके हैं । दवा सेवन संबंधी अतिरिक्त जानकारी के लिए सहायक मलेरिया अधिकारी सीपी मिश्र से उनके मोबाइल नंबर 9450018568 पर सुबह 11 बजे से अपराह्न चार बजे तक सम्पर्क किया जा सकता है। जिन क्षेत्रों में आशा कार्यकर्ता नहीं हैं, वहां आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से सम्पर्क कर दवा का सेवन करना है ।