Wednesday, February 28, 2024
हेल्थ

फाइलेरिया से बचाव का संदेश दे रहा है मरीज सहायता समूह

गोरखपुर, 16 जून 2023। जिले के पिपराईच ब्लॉक क्षेत्र में सक्रिय फाइलेरिया मरीज सहायता समूह (पीएसजी) के सदस्य अपने गांव के लोगों को इस गंभीर बीमारी से बचाव का पाठ पढ़ा रहे हैं । साथ में लोगों को अगस्त में प्रस्तावित सर्वजन दवा सेवन (एमडीए) अभियान के बारे में भी बता रहे हैं । सभी को यह संदेश दे रहे हैं कि फाइलेरिया के कारण होने वाला हाथीपांव लाइलाज है । एक बार यह स्थिति आने के बाद इसे सिर्फ नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन ठीक नहीं किया जा सकता । अगर इस बीमारी से बचना है तो पांच साल तक लगातार साल में एक बार सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम के तहत दवा खाना अनिवार्य है ।

सिंहौली गांव के ग्राम प्रधान देवेंदर सिंह (45) बताते हैं कि उनके गांव में मरीज सहायता समूह के गठन और उसकी गतिविधियों से पहली बार फाइलेरिया के बारे में जन जन तक संदेश पहुंच रहा है । पिछले साल तक सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम चला तो वह खुद भी दवा नहीं खा सके थे। समूह के लोगों के संदेशों से प्रेरित होकर उन्होंने तय किया है कि न सिर्फ खुद और परिवार को दवा खिलाएंगे, बल्कि गांव के प्रत्येक परिवार को दवा खिलवाने में मदद करेंगे ।

सरण्डा गांव में मरीज सहायता समूह से जुड़े कोमल (65) पिछले तीस वर्षों से दाहिने पैर और बायें हाथ में हाथीपांव से ग्रसित हैं । वह बताते हैं कि जब बीमारी की शुरूआत हुई तो हल्का बुखार हुआ । खुद से दवा लेकर खाए। कई जगहों पर इलाज भी करवाया लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ । पहले पैर में सूजन हुआ और फिर हाथ में सूजन होने लगा । करीब दस साल से वह कोई भी काम करने लायक नहीं रह गये । घर का खर्च बच्चे चलाते हैं और वह दिव्यांगता का बोझ ढो रह हैं । कोमल बताते हैं कि पहली बार मरीज सहायता समूह से जुड़ने के बाद उन्हें ऐसा लगा कि कोई है जो उनकी भी परवाह करता है । समूह की बैठकों में चर्चा होती है कि गांव के बाकी लोगों को इस बीमारी से बचाने के लिए जागरूक करना है। गांव में छोटे छोटे समूहों में बैठक कर संदेश दिया जाता है कि फाइलेरिया से बचाव के लिए घरों के आसपास साफ सफाई रखें, मच्छरदानी का प्रयोग करें और साल में एक बार दवा का सेवन अवश्य करें । यह दवा दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती और अति गंभीर तौर पर बीमार लोगों को छोड़ कर सभी को ड्रग एडमिनिस्ट्रेटर के सामने ही खानी है । खाली पेट दवा का सेवन नहीं करना है।

*इन गांवों में चल रहा है समूह*

जिला मलेरिया अधिकारी अंगद सिंह ने बताया कि पिपराईच ब्लॉक के उसका, महराजी, सरण्डा, सिंहौली दूबौली, भैंसहा, कुसम्ही कोठी और महमूदाबाद में मरीज सहायता समूह चल रहे हैं । जिन गांवों में मरीजों की संख्या अधिक होती है उसे फाइलेरिया की दृष्टि से संवेदनशील मानते हुए समूह का गठन किया जाता है । समूह के सदस्य गांव के स्कूल, कोटेदार, सामूहिक बैठकों में अपनी पीड़ा को बयां कर बचाव के लिए प्रेरित कर रहे हैं । समूह के क्षमता संवर्धन में पाथ और सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च संस्थाएं सहयोग दे रही हैं। समूह के लोगों को हाथीपांव प्रबन्धन के बारे में जानकारी और एमएमडीपी किट भी दी जाती है । समूह के लोगों और उनकी मदद से आने वाले हाइड्रोसील के मरीजों की सरकारी प्रावधानों के अनुसार पिपराईच सीएचसी पर सर्जरी कराई जा रही है ।

*जिले में हाथीपांव की स्थिति*

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जिले में इस समय हाथीपांव के 1988 मरीज हैं । हाइड्रोसील के 579 मरीज हैं। इसमें 547 की सर्जरी हो चुकी है। पिछले साल मई में एमडीए के दौरान 79.88 फीसदी लोगों ने फाइलेरिया से बचाव की दवा खाई थी। कुल 32013 लोगों ने दवा खाने से इनकार कर दिया था। इस बार मरीज सहायता समूह और सामुदायिक सहयोग से 90 फीसदी से ज्यादा लोगों को दवा खिलाने का प्रयास होगा।