जीवन का आधार है योग - डॉ प्रवेश - BNT LIVE

जीवन का आधार है योग – डॉ प्रवेश

बस्ती 21 जून । अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर बस्ती पुलिस लाइन परिसर में मुख्य अतिथि पुलिस महानिरीक्षक बस्ती परिषद राजेश मोदक जी एवं पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव,अपर पुलिस अधीक्षक दीपेंद्र नाथ चौधरी, क्षेत्राधिकारी लाइन्स प्रीति खरवार ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। विश्व संवाद परिषद योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रकोष्ठ एवं इंडियन योगा एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में धूमधाम से मनाया गया साधकों को योग की दीक्षा देते हुए जिला योग रिसोर्स पर्सन एवं मुख्य योग शिक्षक प्रशिक्षक पतंजलि योग समिति डॉ प्रवेश कुमार ने कहा जीवन की सिद्धसमाधान और संपूर्णता के लिए सुझाए गए अनेक मार्गो में से एक प्रमुख मार्ग योग भी है। योग भारत की दिव्य दैवीय संपदा का अभिन्न अंग और संसार के योग क्षेम निमित्त भारतीय संस्कृत अमूर्त उपहार है। कोरोना काल में योग, आयुर्वेद और जीवन शैली की संपूर्ण विश्व में स्वीकृति बड़ी है। जब संपूर्ण विश्व का चिकित्सा विज्ञान कोरोना के समक्ष नतमस्तक था तब हमारी आहार पद्धति ,आध्यात्मिक मूल्य, योग, आयुर्वेद आदि ही मानवता की ढाल बने, इसलिए इस जीवन का आधार है योग।
विश्व संवाद परिषद योग प्राकृतिक चिकित्सा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर डॉ नवीन सिंह ने बताया कि आज की इस दौड़ भाग वाली जिंदगी में लोगों का तनाव बढ़ गया है और अनियमित दिनचर्या और गलत खान पान रहन सहन की वजह से अनेक बीमारियों का जन्म हो रहा है जिसमें मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह ,अर्थराइटिस, थायराइड ओस्टियोपोरोसिस, अल्जाइमर, लीवर के रोग स्त्रियों के रोग आदि प्रमुख है। योग तन मन को इतना सदन और परिपक्व बना देता है कि व्यक्ति मानव से महामानव बनता है ।योग एक पूर्ण शास्त्र है जो किसी जाति विशेष की ना होकर विश्व मानव की विरासत है। यदि हम योग और आयुर्वेद को अपने जीवन में नियमित अपना लें तो निश्चित ही हमारा जीवन उत्सव बन सकता है और हम पूरी तरह से अपने परिवार को समाज को बच्चों को स्वस्थ रख सकते हैं और इसी से हमारा समाज हमारा भारत स्वस्थ और समृद्धि बनेगा।
योग प्रशिक्षक प्रवीन कुमार, दीपिका पांडेय, योग सहायक नमन सिंह, वेदांत सिंह , आदिक छोटे योगी योग दिवस में सहयोग किया। योग दिवस के कार्यक्रम में क्षेत्राधिकारी आलोक प्रसाद प्रतिसार निरीक्षक संदीप कुमार राय के अलावा पुलिस लाइन के थानों के लगभग हजारों संख्या में पुलिस कर्मचारियों ने कार्यक्रम में भाग लिया ।