Tuesday, June 25, 2024
Others

कोरोना काल में  डेंगू और मलेरिया से बचकर रहें 

संतकबीरनगर,(जितेन्द्र पाठक}  कोरोना काल में लोगों को मलेरिया व डेंगू जैसी बीमारियों से बचने की जरुरत है। कारण यह है कि डेंगू और मलेरिया के चलते लोगों की इम्‍यूनिटी कमजोर हो जाती है, जिससे कोरोना  का खतरा  बढ़ जाता है। इसलिए यह जरुरी है कि लोग इन मच्‍छरजनित बीमारियों की चपेट में आने से खुद को बचाकर रखें ।
जिला मलेरिया अधिकारी अंगद सिंह का कहना है कि जिन लोगों की इम्‍यूनिटी कमजोर होती है वह कोविड – 19 के जल्‍दी शिकार हो सकते हैं। जब व्‍यक्ति डेंगू और मलेरिया जैसी घातक बीमारियों से ग्रसित होता है तो उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता  कमजोर हो जाती है। डेंगू खुद एक गंभीर  बीमारी है और इसके साथ कोविड- 19 का संक्रमण भी हो गया तो यह और भी ज्‍यादा घातक  हो सकता है। डेंगू एडीज़ मच्छर के काटने से होता है। इस मच्छर के काटने के पाँच से छह दिन बाद डेंगू के लक्षण दिखाई देने लग जाते हैं। मच्‍छर जनित रोगों से बचाव के लिए जिले के सभी गांवों व कस्‍बों तथा शहरी क्षेत्र के मोहल्‍लों में जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है। सभी लोग अपने घरों के अन्‍दर व आस – पास साफ-सफाई रखें जिससे इन जानलेवा बीमारियों से बचा जा सके।
बुखार होने पर स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र ही जाएं
एपीडेमियोलाजिस्‍ट डॉ मुबारक अली बताते हैं कि अगर किसी को बुखार हो तो वह अपने नजदीकी स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र पर ही जाए। मेडिकल स्‍टोर से या फिर किसी अप्रशिक्षित  डाक्‍टर से कोई भी दवा लेकर न खाएं। ऐसा करने से बीमारी बढ़ जाएगी और जब तक आपको पता लगेगा तब तक स्थिति गंभीर हो सकती है।
यह हैं डेंगू ज्‍वर के प्रमुख लक्षण
डेंगू के सबसे प्रमुख लक्षणों में से एक ‘हड्डियों का दर्द’ है। इस कारण से डेंगू को ‘हड्डी तोड़ बुखार’ के नाम से भी जाना जाता है। डेंगू, खासतौर पर बारिश के मौसम के दौरान और बाद में होता है। इस समय डेंगू तेजी से फैल रहा है लेकिन उससे डरने की जरूरत नहीं है। बल्कि लोगों को सावधान और जागरूक रहने की आवश्यकता है । डेंगू के लक्षणों में त्वचा पर चकत्ते, तेज सिर दर्द, पीठ दर्द, प्लेटलेट्स कम होना, आंखों में दर्द, तेज़ बुखार, मसूड़ों से खून बहना, नाक से खून बहना, जोड़ों में दर्द, उल्टी, दस्त आदि प्रमुख हैं ।
इन बातों का जरुर रखें ध्‍यान
·         अपने आस-पास मच्‍छरों को न पनपने दें । दरवाजे व खि‍ड़कियों पर जाली लगवाएं ताकि मच्‍छरों का प्रवेश घर में न हो।
·         मच्‍छरदानी का प्रयोग करें तथा घर के अन्‍दर फ्रिज, कूलर, पुराने टायरों व डिब्बों में पानी कदापि न एकत्रित होने दें।
·         पानी की टंकी को पूरी तरह से ढक करके रखें तथा पूरी बांह वाली कमीज और पैंट पहनें, ताकि मच्‍छर न काट सकें।
·         नालियों में जलभराव को रोकें तथा नियमित सफाई करते रहें , जानवरों के बाड़ों को घर से दूर रखें तथा सफाई पर विशेष ध्‍यान दें।

अंगद सिंह, जिला मलेरिया अधिकारी