उत्तर प्रदेश में घृणा की राजनीति चल रही है, शब्दों की मर्यादा तार तार हो रही है-उपेन्द्र कुशवाहा - BNT LIVE

उत्तर प्रदेश में घृणा की राजनीति चल रही है, शब्दों की मर्यादा तार तार हो रही है-उपेन्द्र कुशवाहा

बस्ती। जनता दल यूनाइटेड यूपी में राजनीतिक जमीन तलाश रही है। यूपी के विधानसभा चुनाव में 28 प्रत्याशी उतारने वाले जदयू के नेता सेन्ट्रल पार्लियामेंट्री बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने महंगाई, जातीय गणना और विकास के मुद्दो पर अपनी राय रखा। वे सिद्धार्थनगर में जदयू से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के समर्थन में कार्यक्रम को संबोधित करने जा रहे थे।

बस्ती के एक होटल में में रूके उपेन्द्र कुशवाहा ने बातचीत करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में घृणा की राजनीति चल रही है। शब्दों की मर्यादा तार तार हो रही है। डुमरियागंज से बीजेपी प्रत्याशी और निर्वतमान विधायक के दूसरे दलों के प्रत्याशी को वोट करने वालों को जयचन्द की नाजायज औलाद बताने सम्बन्धी वायरल वीडियो को शर्मनाक बताया। बिहार सरकार में बीजेपी के साथ होने और यूपी में उससे अलग होकर चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि जहां उनकी विचारधारा मिलेगी, चीजों को कंट्रोल करने की स्थिति में रहेंगे तो यूपी में उसके साथ जाएंगे। क्या बिहार में उनकी विचारधारा बीजेपी से मिल रही है के सवाल पर कहा कि उनके दल की विचारधारा किसी भी स्टेट में बीजेपी से नहीं मिल रही है। हमारे लिए पार्टी की विचारधारा पूरे देशभर के लिए होती है।

बिहार में उनकी पार्टी का बीजेपी से एलायंस है, लेकिन विचारधारा के स्तर पर अलग हैं। यूपी में यदि उनकी पार्टी के प्रत्याशी जीत दर्ज करते है तो क्या वे बीजेपी के साथ जाएंगे के सवाल पर कहा कि यूपी में क्या रिजल्ट होगा, जनता क्या जनादेश जनता देगी। उसे देखने के बाद निर्णय लिया जाएगा। यह कहना गलत है कि बीजेपी की विचारधारा से उनकी पार्टी की विचारधारा मेल खाती है। कहा कि महंगाई के सवाल पर बिहार के सीएम नितीश कुमार ने भी कहा है कि महंगाई इस सीमा तक नहीं बढ़नी चाहिए। महंगाई को रोकने के लिए केन्द्र सरकार को कदम उठाना चाहिए। साथ होने के बाद भी हम जातीय जनगणना पर उनसे अलग बात कर रहे है।बातचीत के दौरान उनके साथ यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अनूप सिंह पटेल, प्रदेश सचिव प्रवीन चैधरी मौजूद रहे।