Sunday, July 21, 2024
मनोरंजन

नई दिल्ली लंबे इंतजार के बाद अमेजन प्राइम वीडियो ने ‘मिर्जापुर-2’ वेब सीरीज का ट्रेलर रिलीज कर दिया है। मिर्जापुर के पहले भाग को काफी पसंद किया गया था और दूसरे भाग का इंतजार लोगों को बेसब्री से था। मिर्जापुर-2 की कहानी यूपी के पूर्वांचल में मिर्जापुर जिले के बाहुबली ‘कालीन भैया’ और उनके साम्राज्य पर आधारित है। मिर्जापुर के पहले सीजन के दो अहम किरदारों ‘बबलू पंडित’ और ‘स्वीटी गुप्ता’ की मौत के बाद मिर्जापुर-2 पूरी तरह से एक बदले की कहानी है। मिर्जापुर-2 अमेजन प्राइम वीडियो पर 23 अक्टूबर को रिलीज होगी, लेकिन रिलीज से पहले ही इस वेब सीरीज के कई डायलॉग सोशल मीडिया पर भौकाल काट रहे हैं। आइए नजर डालते हैं मिर्जापुर-2 के ऐसे ही कुछ डायलॉग पर।

1- ‘कभी भी नियम बदल सकता है’

जिन लोगों ने मिर्जापुर-1 देखी है, वो समझ सकते हैं कि मिर्जापुर-2 को लेकर भौकाल कितना टाइट है। मिर्जापुर-2 का ट्रेलर आने के बाद कोई डायलॉग अगर सबसे ज्यादा लोगों की जुबां पर चढ़ा हुआ है तो वो यही है। वेब सीरीज के एक सीन में अखंडानंद त्रिपाठी उर्फ कालीन भैया कहते हैं, ‘गद्दी पर चाहे हम रहें या मुन्ना, नियम सेम होगा…’। इसके बाद कालीन भैया के छोटे भाई यानी मुन्ना त्रिपाठी बोलते हैं, ‘और हम एक नियम एड कर रहे हैं… मिर्जापुर की गद्दी पर बैठने वाला कभी भी नियम बदल सकता है।’

2- 'गुड्डू पंडित वापस आ गए हैं'

2- ‘गुड्डू पंडित वापस आ गए हैं’

मिर्जापुर सीजन 1 में मुन्ना त्रिपाठी (दिव्येंदु शर्मा) ने गु्ड्डू पंडित के छोटे भाई बबलू पंडित की हत्या की थी। मिर्जापुर-2 में गुड्डू पंडित अपने भाई की हत्या का बदला लेंगे और जो डायलॉग सोशल मीडिया पर छाया हुआ है, वो है- ‘गुड्डू पंडित वापस आ गए हैं’। सीरिज में गुड्डू पंडित (अली फजल) कहते हैं, ‘गुड्डू पंडित वापस आ गए हैं, वो जाएंगे नहीं…अगली बार दुश्मन हाथ लगा तो बचेगा नहीं…।’

3- 'शेर के मुंह को खून लग चुका'

3- ‘शेर के मुंह को खून लग चुका’

मिर्जापुर-2 का एक डायलॉग और छाया हुआ है- शेर के मुंह को खून लग चुका। दरअसल इस सीरीज में अखंडानंद त्रिपाठी का किरदार निभाने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी के पिता का रोल मशहूर अभिनेता कुलभूषण खरबंदा ने निभाया है और उनका नाम सत्यानंद त्रिपाठी है। वेब सीरीज के एक सीन में सत्यानंद त्रिपाठी अपनी बहू यानी अभिनेत्री रसिका दुग्गल से कहते हैं- शेर के मुंह को खून लगा चुका… इस पर रसिका जवाब देती हैं- शेर की उम्र ज्यादा है, लेकिन बूढा नहीं हुआ है अभी…’।

4- 'अब हमको बदला भी लेना है और मिर्जापुर भी'

4- ‘अब हमको बदला भी लेना है और मिर्जापुर भी’

अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए मिर्जापुर लौटे गुड्डू पंडित एक सीन में कहते हैं- ‘अब हमको बदला भी लेना है और मिर्जापुर भी’। दरअसल मिर्जापुर के पहले भाग में ही गुड्डू पंडित के सपने मिर्जापुर पर राज करने के थे। कालीन भैया के नीचे काम करते हुए गुड्डू पंडित के इन्हीं सपनों को हवा लगती है, जो मुन्ना त्रिपाठी को बर्दाश्त नहीं होता और आखिर में गुड्डू पंडित का छोटा भाई बबलू पंडित मारा जाता है। मिर्जापुर-2 में गुड्डू पंडित के बदले हुए किरदार को लेकर भी दर्शकों के बीच काफी रोमांच है।

5- 'बड़ी बेटी ना सही, छोटी मिर्जापुर पर राज करेगी'

5- ‘बड़ी बेटी ना सही, छोटी मिर्जापुर पर राज करेगी’

मिर्जापुर-1 में अगर कोई किरदार शुरू से लेकर आखिर तक छाया रहा, तो वो थीं गोलू गुप्ता यानी अभिनेत्री श्वेता त्रिपाठी। सीरीज के पहले भाग में गोलू गुप्ता की बहन स्वीटी गुप्ता को मुन्ना त्रिपाठी मार देते हैं। दूसरे भाग में गोलू गुप्ता अपनी बहन का बदला लेती हुईं नजर आएंगी। एक सीन में गोलू गुप्ता अपने पिता से कहती हैं, ‘आप ही का मन था ना कि आपकी बेटी मिर्जापुर पर राज करे…बड़ी ना सही, छोटी मिर्जापुर पर राज करेगी…’।