Sunday, April 14, 2024
बस्ती मण्डल

बस्ती।अधिकतम ओपीडी (मरीज की संख्या) वाले निजी अस्पतालों में कोरोना की जांच की जाएगी। जिले के 20-25 अस्पतालों का चयन इसके लिए किया जाएगा। कम्युनिटी स्तर पर कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन द्वारा कोरोना जांच का दायरा निरंतर बढ़ाया जा रहा है। गैर उपचारित मरीज मिलने पर उनका इलाज कराया जा रहा है। उनके संपर्क में आए हाई व लो रिस्क वालों की भी जांच कराई जा रही है।

निजी अस्पतालों में आने वाले मरीजों व तीमारदारों से कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए प्रशासन ने वहां पर एंटीजन जांच कराए जाने का निर्देश दिया है। शुरू में छोटे-बड़े सभी अस्पतालों में जांच शुरू कराई, लेकिन इसमें कुछ बदलाव किया गया है। एसीएमओ/आईडीएसपी के नोडल आफिसर डॉ. सीएल कन्नौजिया ने बताया कि अब केवल उन्हीं अस्पतालों में एंटीजन जांच कराई जाएगी जहां पर सर्वाधिक मरीज आ रहे हैं। पूर्व में इसमें शामिल आंख के अस्पतालों को हटाया जा रहा है। ऐसा करने से जहां एंटीजन किट की खपत कम होगी वहीं ज्यादा ओपीडी वाले अस्पतालों की जांच में परिणाम भी अच्छे आएंगें। विभाग द्वारा इन अस्पतालों की मानीटरिंग भी व्यवस्थित तरीके से की जा सकेगी। उन्होंने बताया कि विभाग का लक्ष्य है कि जिले के सर्वाधिक ओपीडी वाले 20-25 अस्पतालों को इसमें शामिल किया जाए।

विभाग की ओर से मुहैया कराई जाती है एंटीजन किट
निजी अस्पतालों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से एंटीजन व पीपीई किट नि:शुल्क मुहैया कराई जाती है। निजी अस्पतालों के कर्मचारियों को जांच के लिए विभाग द्वारा प्रशिक्षित किया गया है। अस्पताल में मरीज के आने पर उसकी जांच की जाती है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर मरीज को आईसोलेशन रूम में भेज दिया जाता है, तथा इसकी रिपोर्ट कमांड कंट्रोल रूम को दी जाती है। कंट्रोल रूम की सूचना पर रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) मरीज को अस्पताल या होम आईसोलेशन में भेजने की व्यवस्था करती है।