Tuesday, April 16, 2024
Others

प्रधानमन्‍त्री मातृ वन्‍दना योजना : मोबाइल से ही लाभार्थी जानेंगे भुगतान की स्थिति  प्रथम बार गर्भवती को तीन किश्‍तों में मिलते हैं 5 हजार रुपए

संतकबीरनगर, प्रधानमन्‍त्री मातृ वन्‍दना योजना के तहत मिलने वाले 5000 रुपए के भुगतान से सम्‍बन्धित किसी प्रकार की समस्‍या के निराकरण के लिए राज्‍य स्‍तर पर हेल्‍पलाइन जारी कर दी गई है। इसके तहत इस योजना के लाभार्थी अपने आवेदन की स्थिति और भुगतान सम्‍बन्धित जानकारी मोबाइल फोन से ही प्राप्‍त कर सकते हैं। इसके लिए जिला स्‍तर पर भी हेल्‍पलाइन जारी की गई है।
मुख्‍य चिकित्‍साधिकारी डॉ. हरगोविन्‍द सिंह ने योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना के तहत प्रथम बार गर्भवती महिलाओं को तीन किश्‍तों में 5000 रुपये की धनराशि सीधे राज्‍य स्‍तर से उनके खाते में स्‍थानान्‍तरित की जाती है। इस योजना का लाभ आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता या अपने निकटतम प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र पर जाकर निर्धारित फार्म को भरकर प्राप्‍त किया जाता है। इसके लिए महिला को अपना खाता नम्‍बर , आधार कार्ड नम्‍बर तथा अन्‍य कागजात ले जाने पड़ते हैं। अगर महिला ने फार्म भर दिया है और उसके भुगतान में कहीं कोई समस्‍या आ रही है तो सीधे राज्‍य और जिला स्‍तरीय हेल्‍पलाइन पर सम्‍पर्क कर सकते हैं। इन हेल्‍प लाइन पर सभी प्रकार की समस्‍याओं का निराकरण हो सकेगा। आशा संगिनी सरोज यादव कहती हैं कि हेल्‍प लाइन जारी होने से अब आशा बहनों के साथ ही लाभार्थियों को भी सहूलियत होगी। यह एक अच्‍छा प्रयास है। पहले सीएचसी, पीएचसी पर जाकर फार्म की जानकारी लेनी पड़ती थी। इसमें काफी समय लगता था।
ये हैं हेल्‍पलाइन के नम्‍बर
राज्‍य स्‍तर पर जारी हेल्‍पलाइन का नम्‍बर 7998799804 है। इस पर फोन करके लाभार्थी अपने फार्म के भुगतान के सम्‍बन्धित जानकारी प्राप्‍त कर सकते हैं। वहीं जिला स्‍तर पर जारी हेल्‍प लाइन में जिला कार्यक्रम समन्‍वयक सुमन शुक्‍ला का मोबाइल नं 9096210825 तथा जिला कार्यक्रम सहायक के मोबाइल नं 7905920818 पर कार्यालय के समय में सम्‍पर्क किया जा सकता है।
तीन किस्तों में मिलती है मदद राशि
5000 रुपए की यह राशि तीन किस्‍त में मिलती है। पहली किस्‍त  1000 रुपए की होती है जो कि गर्भावस्था के दौरान पंजीकरण के समय प्रदान की जाती है। दूसरी किस्‍त  को गर्भावस्था के 6 महीने बाद और प्रसव के पहले दिया जाता है। दूसरी किस्त में लाभार्थी को 2000 रुपए  मिलते हैं। तीसरी किस्‍त बच्चे के जन्म और उसके पंजीकरण तथा टीकाकरण के प्रथम चक्र पूरा होने पर मिलती है। इसके तहत लाभार्थी को 2000 रुपए  दिए जाते हैं।