Tuesday, June 25, 2024
क्राइम

एक तरफ जल रही थी चिता, दूसरी तरफ ठहाके लगा रही थी पुलिस

हाथरस। उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 वर्षीय दलित युवती से गैंगरेप की घटना ने लोगों को झकझोर कर रख दिया है। 15 दिनों से मौत से जंग लड़ रही पीड़िता की मौत के बाद देशभर में गुस्सा है। दिल्ली, उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में पीड़िता को इंसाफ के लिए प्रदर्शन हुए। उधर, आरोप है कि पुलिस ने जबरन पीड़िता का अंतिम संस्कार भी कर दिया। इस बीच एक वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है। यह वीडियो आधी रात में उस वक्त का है, जब पीड़िता की चिता जल रही थी।

वीडियो के मुताबिक, जब गैंगरेप पीड़िता की चिता जल रही थी, तब पुलिस के कई अधिकारी साइड में खड़े होकर बातें कर रहे थे और ठहाके लगा रहे थे। बता दें, हाथरस में 19 वर्षीय दलित युवती से 14 सिंतबर को गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया था। पीड़िता को हाथरस के बाद इलाज के लिए अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। 28 सितंबर को हालत नाजुक होने पर पीड़िता को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया था। 29 सिंतबर की सुबह पीड़िता ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

पुलिस ने मंगलवार की देर रात 2:40 बजे बिना किसी रीति रिवाज के पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार करवा दिया। इस दौरान पीड़िता की मां पुलिस के आगे बिलखती रही और गिड़गिड़ाती रही कि वो बेटी को अपनी देहरी से हल्दी लगाकार विदा करेगी। घरवाले गुहार लगाते रहे, वो भीख मांगते रहे कि 15 मिनट के लिए बेटी के आखिरी दर्शन कर लेने दिए जाएं, लेकिन परिवार वालों की एक न सुनी गई और जबरन पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मुखाग्नि भी पुलिस वालों ने ही दी। पीड़िता के भाई ने आरोप लगाया कि जब उन लोगों ने बेटी का संस्कार करने से इनकार कर दिया तो पुलिस गुस्से में हो गई। पुलिस ने उन लोगों को धमकी दी, उनके घरवालों के साथ धक्का-मुक्की भी की गई। कुछ लोगों को घर में बंद कर दिया गया तो कुछ डरकर अपने घरों में बंद हो गए।