Sunday, April 14, 2024
राजनैतिक

बहुमत से जीतेगी बरोदा उपचुनाव कांग्रेस पार्टी, चुनाव के बाद गिर जाएगी बीजेपी + जेजेपी सरकार : दीपेंद्र हुड्डा

चंडीगढ़| इन्दु/नवीन बंसल (राजनीतिक संपादक) बरोदा उपचुनाव किसानों, कर्मचारियों, मजदूरों, दुकानदारों और छोटे कारोबारियों के लिए एक मौक़ा है। ये मौक़ा है सत्ता के घमंड में चूर लगातार जनविरोधी फ़ैसले ले रही सरकार को सबक सिखाने का। बरोदा की जनता ये मौक़ा नहीं चूकेगी और वोट की चोट से बीजेपी-जेजेपी सरकार से उसकी कारगुज़ारियों का बदला लेगी। ये कहना है राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा का। सांसद दीपेंद्र का कहना है कि बरोदा के नतीजों के साथ ही गठबंधन सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। आने वाले दिनों में बरोदा में कांग्रेस की जीत और प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनना तय है। इसीलिए वोटिंग करते हुए जनता ना सिर्फ़ भूतकाल में खट्टर सरकार द्वारा की गई अनदेखी को ध्यान में रखेगी, बल्कि प्रदेश की राजनीति के भविष्य को भी तय करेगी।
राजनीतिक गलियारों और जनता के बीच में ये चर्चा आम है कि गठबंधन सरकार पूरी तरह लड़खड़ा चुकी है और कभी भी गिर सकती है। ख़ुद बीजेपी के नेता और सरकार के सहयोगी विधायक बग़ावती तेवर अपनाए हुए हैं। उन्हें मालूम है कि इस सरकार के साथ खड़े होने का मतलब अपने राजनीतिक भविष्य को ख़तरे में डालना है। जैसे ही बरोदा में कांग्रेस जीत का परचम लहराएगी तो सरकार की बैसाखी बने इन विधायकों की बग़ावत भी खुलकर सामने आएगी। सरकार के सहयोगी विधायकों के दिल में असंतोष की जो आग सुलग रही है वो उपचुनाव के बाद ज्वाला का रूप धारण कर लेगी और ये सरकार अपनों के अंसंतोष के बोझ से गिर जाएगी।
दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि जिस तरह से सरकार ने किसानों पर काले क़ानून थोपे हैं, उससे गठबंधन के नेताओं और मंत्रियों का जनता के बीच में जाना मुश्किल हो गया है। हर जगह उन्हें विरोध का सामना करना पड़ता है। माहौल को भांपते हुए सरकार के ज़्यादातर नेता तो बरोदा में चुनाव प्रचार बीच में ही छोड़कर भाग गए हैं। जो नेता या मंत्री बरोदा पहुंच रहे हैं, उन्हें पुलिसिया सुरक्षा के भारी तामझाम के बीच प्रचार करना पड़ रहा है। क्योंकि सिर्फ किसान ही नहीं प्रदेश के हर तबके में इस सरकार के ख़िलाफ़ भारी रोष है और वो सत्ताधारियों के सामने खुलकर अपना रोष प्रकट कर रहे हैं।