Tuesday, April 16, 2024
बस्ती मण्डल

गरीब वंचित महिलायें गरीबों की पहचान कर शिखा रही हैं हुनर

बस्ती। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत जनपद सिद्धार्थनगर के चयनित आईसीआरपी का 9 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण जिला ग्राम्य विकास संस्थान, बस्ती पर आयोजित किया गया। इसमें विकास खण्ड-बांसी से 9 , जोगिया से 18, खेसरहा से 8 और बर्डपुर से 18 आईसीआरपी महिलाओं ने प्रतिभाग किया। प्रशिक्षण 18 सितम्बर से 26 सितम्बर तक आयोजित किया गया। मिशन के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 में जनपद में सभी विकास खण्ड इंटेंसिव कर दिए गए हैं।
राज्य प्रशिक्षक डॉ0 मजहर रसीदी ने प्रशिक्षण सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि मिशन में अभी तक स्वयं सहायता समूह गठन का कार्य वाह्य सीआरपी द्वारा किया जाता था। मिशन निदेशक का आदेश है कि जनपद स्वयं अपनी आईसीआरपी चयनित एवं प्रशिक्षित कर टीम तैयार करें और उन्ही से जनपद के समूह गठन का लक्ष्य पूरा किया जाए।
डा रसीदी ने बताया कि आइसीआरपी हेतु समूह की लगभग एक वर्ष से जुड़ी हो, उनका बोल चाल, व्यवहार कुशल, लिखना पढ़ने का ज्ञान हो, ऐसी समूह की महिलाआंे का चयन कर उन्हें 9 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण देकर उनके समूह गठन की प्रक्रियाओं के बारे में क्षमता वर्धन किया जाता है। समूह की महिला जो समूह के माध्यम से गरीबी से बाहर आने का प्रयास करती है, उसकी गरीबों के बारे में बेहतर समझ होती है और गांव में जाकर के महिलाओं के बीच में गरीब महिलाओं को जोड़ने में सफल होती है। समूह गठन हेतु सीआरपी ड्राइव पॉलिसी के अनुसार समय-समय पर चलाया जाता है। सीआरपी ड्राइव के दौरान एक गांव में 15 दिन 5 सदस्यीय आईसीआरपी टीम रूकती है जो गांव में रहने वाले सभी गरीब परिवारों से मिलकर, मजरा-टोला में गरीब महिलाओं को समूह में जुड़ने हेतु प्रेरित करती है। आइसीआरपी हेतु चयनित महिलाओं ने अपने सकून के मतलब को परिभाषित कर लिया हो जिसने गरीबी की जड़ से निकलने का हुनर सीख रही है।
जिला प्रशिक्षण अधिकारी डॉ0 विवेक कुमार ने प्रशिक्षण में बताया कि 15 दिन के दौरान गांव में रहकर के ग्राम प्रधान सचिव आंगनवाड़ी आशा या अन्य सभी सदस्यों से मिलकर के गांव में समूह गठन का वातावरण तैयार करती हैं। सीआरपी ड्राइव के दौरान 15 दिन में कम से कम 6-10 समूह का गठन किया जाता है। सभी आइसीआरपी टीम को वर्ष में 180 दिन अधिकतम समूह गठन का कार्य दिया जाएगा एवम मिशन द्वारा निर्धारित पारिश्रमिक भी समय से दिया जाएगा।
प्रशिक्षण उपरांत जनपद में आइसीआरपी टीम समुह गठन हेतु तैयार होंगी जिनकी मदद से जनपद के समूह गठन का लक्ष्य पूरा किया जाएगा।
आईसीआरपी को प्रशिक्षण जिला संदर्भ व्यक्ति विवेक कुमार, गोरखपुर श्रीमती अनीता भारती, हमीरपुर और बस्ती से कुमकुम और निर्मला बी आर पी के द्वारा दिया गया। प्रशिक्षण शेषमणि सिंह उपायुक्त स्वतः रोजगार सिद्धार्थनगर के मार्गदर्शन में संचालित किया जा रहा है और मुकेश कुमार, वरिष्ठ प्रशिक्षक एवं विमलेश कुमार जिला मिशन प्रबंधक सिद्धार्थनगर की देख रेख प्रशिक्षण आयोजित किया गया है।
Mukesh Prajapati