Sunday, April 21, 2024
Others

जो राजनैतिक दल कायस्थ समाज को के बारे में नही सोचेगा कायस्थ समाज भी उसके बारे विचार नही करेगा।मनमोहन श्रीवास्तव काजू

बस्ती। आज दिनाँक 26 अगस्त अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की बैठक में अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मनमोहन श्रीवास्तव काजू ने कहा कायस्थ समाज किसी भी दल का बंधुआ मजदूर नहीं है कायस्थ समाज प्रबुद्ध वर्ग है वह अपने निर्णय स्वयं लेता है अब जो भी दल का कायस्थ समाज को हल्के में लेगा कायस्थ समाज मे उस समय दल को भी हल्के में लेगी, आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में कायस्थ समाज अपनी भागीदारी तय करे,मनमोहन श्रीवस्तब ने कहा कायस्थ समाज देश की आजादी से लेकर के संविधान के निर्माण तक महत्वपूर्ण भूमिका में रहा है देश के प्रथम प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री कार्य समाज के थे जिनके ईमानदारी की की प्रशंसा पूरा विश्व करता है समाज मे ऐसे बहुत महापुरुष हुये जिन्होंने देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, भारत के संविधान में डॉ बाबू राजेंद्र प्रसाद जी का महत्वपूर्ण योगदान था, ऐसे में राजनीतिक पार्टियों द्वारा कायस्थ समाज को कम आकना बहुत बड़ी भूल होगी ,कायस्थ समाज हमेशा सर्व समाज की बात करता है लेकिन जब कायस्थ की बात आती है तो उन्हें सभी राजनीतिक दल उसे भूल जाते हैं पर अब ऐसा नहीं होने देंगे, अब हम उन्हीं के साथ रहेंगे जो हमें याद रखेगे अगर वह हमें भूल जाएंगे तो हम भी उन्हें भूल जाएंगे इस संकल्प के साथ हम आगे बढ़ेंगे, हमारा समाज संगठित है समय आने पर यह सभी राजनीतिक दल को पता चल जाएगा हम शोर नहीं मचाते हैं पर समय आने पर घाव बहुत बड़ा देंगे। सभी राजनीतिक पार्टियां से कहना है कि कायस्थ समाज को हल्के में ना लें, सभी राजनीतिक दल कायस्थ समाज को 2022 के विधानसभा चुनाव में टिकट दें और संगठन में समाहित करें तभी कायस्थ समाज जिन जिन दलों में है उन उन दलों के बारे में विचार करेगा।