Sunday, April 21, 2024
देश

दुर्घटना होने पर राहत ट्रेनें भेजेंगी Live वीडियो, मिलेगी टाइम पर मदद

अब ट्रेन दुर्घटना होने की पूरी जानकारी वीडियो के जरिए लाइव मिलेगी। बता दें कि वीडियो के इस लाइव जानकारी से कंट्रोल रूम को दुर्घटना स्थल पर सहायता पहुंचाने में आसानी होगी। इस सुविधा को जल्द उत्तर-मध्य रेलवे 3 महीने के अंदर शुरू करेगी। जानकारी के मुताबिक, इस सुविधा में मॉर्डन तकनीकों का इस्तेमाल किया जाएगा। इस सुविधा को शुरू करने के पीछे का कारण यह है कि जब भी कोई रेल दुर्घटना होती है तो इसके लिए एक्सीडेंटल रिलीफ और बचाव ट्रेनों को पहले भेजा जाता है लेकिन इसमें काफी देरी भी हो जाती है क्योंकि कई बार नेटवर्क के समस्या के कारण कंट्रोल रूम को हादसे की वीडियो जल्द नहीं मिल पाती है। लेकिन अब नई तकनीक जैसे की वीसेट यानि की वेरी स्माल अपर्चर टर्मिनल का इस्तेमाल किया जा रहा है जिसके तहत यह सैटेलाइट से सीधे कम्यूनिकेट करेगा।

रेलेवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने निर्देश दिया है कि एक महीनें के अंदर मार्केट में  इस तरीके की मॉडर्न डिवाइस का सेलेक्शन होगा। इस प्रक्रिया को 3 महीनें के अंदर लागू करना होगा।बता दें कि इस सिस्टम को लगाने का काम रेलवे के प्रयागराज डिवीजन और उत्तर मध्य रेलवे के आईटी सेल हेडक्वार्टर को सौंपा गया है। इस सिस्टम में मोबाइल नेटवर्क भी उपलब्ध होगा और यह सब एरिया के आधार स्थापित किया जाएगा। मोबाइल नेटवर्क लगाने से कम्यूनिकेशन में कोई परेशानी नहीं आएगी और साथ ही कई जगह सेलुलर ऑपरेटर के आधार पर 4जी और 3जी की व्यवस्था की जाएगी। इस नए सिस्टम को राहत ट्रेनों के जरिए कंट्रोल रूम से जोड़ दिया जाएगा। इसके बाद राहत दल ट्रेन दुर्घटना स्थल पर समय पर पहुंच पाएगा और वहां से इस डिवाइस और सिस्टम के जरिए कंट्रोल रूम को सीधे लाइव विडियो मिल जाएगी।