Monday, April 15, 2024
साहित्य जगतहेल्थ

कोरोना ने दिया है…..

कोरोना ने दिया है अति गहरा अवसाद।
खानपान में अब नहीं मिलता कोई स्वाद।
कुछ भी तो अच्छा नहीं लगता है श्रीमान।
अधरों की गायब हुई आज हंसी अम्लान।
मन सागर में खुशी की उठती नहीं तरंग।
मौतों का क्रम देखकर हर कोई है दंग।
कोरोना ने दिया है इतना गहरा घाव।
स्वजनों से भी हो गया अब कैसा अलगाव।
जिसके ऊपर गिर गया कोरोना का गाज।
वह अपने परिवार से कटा कटा है आज।
डॉ वी.के. वर्मा
चिकित्साधिकारी
जिला चिकित्सालय