Wednesday, July 24, 2024
तीर्थ स्थल

खूबसूरत मंदिरों का दर्शन करना है तो आएं ‘ओरछा’

ओरछा शहर मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले में पड़ता है। यहां बेहद खूबसूरत मंदिरों, किलों, महलों और वाइल्ड सेंचुरी देखने के लिए हर साल हजारों सैलानी आते हैं। ओरछा में एक दो नहीं, बल्कि हजारों की संख्या में छोटे बड़े मंदिर स्थित हैं, और यही वजह है कि ओरछा को “मंदिरों का शहर” भी कहा जाता है।

भारत का मध्य प्रदेश राज्य बेहद खूबसूरत और भव्य मंदिरों के लिए जाना जाता है। मध्य प्रदेश का प्राकृतिक सौंदर्य भी लोगों को अपनी तरफ खूब आकर्षित करता है। ऐसे में हम आज मध्य प्रदेश के बेहद खूबसूरत शहर ‘ओरछा’ की बात करेंगे, जो अपने सुंदर मंदिरों और प्राकृतिक वातावरण के लिए जाना जाता है।

बता दें कि ओरछा शहर मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले में पड़ता है। यहां बेहद खूबसूरत मंदिरों, किलों, महलों और वाइल्ड सेंचुरी देखने के लिए हर साल हजारों सैलानी आते हैं। ओरछा में एक दो नहीं, बल्कि हजारों की संख्या में छोटे बड़े मंदिर स्थित हैं, और यही वजह है कि ओरछा को “मंदिरों का शहर” भी कहा जाता है। इस शहर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां के अधिकांश मंदिर या स्मारक 500 साल पुराने हैं और इनकी वास्तुकला अद्भुत है।

ओरछा में ना केवल प्राचीन और भव्य मंदिर भर हैं, बल्कि यहां आपको प्रकृति का सानिध्य भी प्राप्त होगा। यहाँ के वन्यजीव सेंचुरी में विभिन्न प्रकार के जानवरों को आप देख सकेंगे। यही नहीं, आप ओरछा में ट्रैकिंग का भी आनंद ले सकते हैं।

तो आइये जानते हैं ओरछा के महत्वपूर्ण दार्शनिक स्थलों को…

राजाराम मंदिर 

ओरछा शहर में स्थित यह मंदिर भगवान राम को समर्पित है। यहां के लोग भगवान राम को एकमात्र शासक और दैवीय शक्ति मानकर उनकी पूजा करते हैं। बेतवा नदी के किनारे बने इस भव्य मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां के आसपास रहने वाले लोग हमेशा प्रसन्न और सुखी रहते हैं।

ओरछा फोर्ट

ओरछा शहर के प्रमुख आकर्षणों में ओरछा फोर्ट का नाम सबसे ऊपर आता है। कहा जाता है कि इस किले का निर्माण 16वीं शताब्दी में ‘राजा रुद्र प्रताप सिंह’ के द्वारा कराया गया था। आप जब भी ओरछा आयें तो इस खूबसूरत किले को जरूर देखें।

शीश महल 

ओरछा आने वाला प्रत्येक सैलानी शीश महल जरूर देखने जाता है। कहा जाता है कि यह महल राजा उदय सिंह का है जो अपनी बहू व्यंजन प्रणाली के लिए विश्व प्रसिद्ध है।

 

जहांगीर महल 

इस खूबसूरत महल को लेकर कहा जाता है कि मुगल शासक जहांगीर ने अपने रहने के लिए लाल पत्थर से और संगमरमर से इस महल का निर्माण करवाया था, जो 16वीं शताब्दी के मुग़ल वास्तुकला की शैली का प्रतीक माना जाता है।

 

वाइल्ड लाइफ सेंचुरी 

यह वन्यजीव अभयारण्य मध्य प्रदेश के सभी वाइल्ड वाइल्ड लाइफ सेंचुरी या वन्यजीव अभयारण्य में विशिष्ट माना जाता है। इस वाइल्ड लाइफ सेंचुरी का निर्माण 1994 में किया गया और इसे बेतवा और जामनी नदी के किनारे बनाया गया। इसमें आपको तमाम जंगली जीव-जानवर देखने को मिलेंगे। यहां आपको ट्रैकिंग, कैनोइंग और फिक्सिंग आदि का भी आनंद लेने का मौका मिलेगा।

 

बेतवा नदी 

ओरछा की सबसे अहम् खूबसूरती यह है कि यह बेतवा नदी के किनारे बसा है। इस खूबसूरत नदी में आपको राफ्टिंग का आनंद लेने का मौका मिलेगा, तो वहीं नदी के किनारे आसानी से जंगली जानवरों को टहलते हुए देख सकेंगे।

इसे भी पढ़ें: दक्षिण भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में एक है पुडुचेरी

कैसे पहुंचे ओरछा? 

ओरछा के लिए आपको रेल, हवाई और सड़क मार्ग तीनों से आसानी से संसाधन मिल जाएंगे। अगर आप हवाई मार्ग चुनते हैं तो नजदीकी हवाई अड्डा झांसी है, जो ओरछा से मात्र 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वहीं अगर आप ट्रेन से ओरछा जाने की सोच रहे हैं तो भी आपको नजदीकी रेलवे स्टेशन के रूप में झांसी जाना पड़ेगा। यहां से आप टैक्सी लेकर 16 किलोमीटर दूर ओरछा आसानी से जा सकेंगे।

 

कब जाएं ओरछा? 

मध्यप्रदेश में बेहद गर्मी पड़ती है इसलिए यहां जाने का सबसे उपयुक्त समय अक्टूबर से मार्च का बताया जाता है। इन दिनों यहाँ का मौसम सुहाना रहता है।

 

– विंध्यवासिनी सिंह